कौन हो तुम ..... by atul kumar
कौन हो तुम …..
December 15, 2020
सब कुछ तो दिया आपने बीन कहे बिन मांगे by atul kumar
सब कुछ तो दिया आपने बिन कहे बिन मांगे
December 15, 2020
Show all

मेरा अक्स,मेरा आइना …….

मेरा अक्स,मेरा आइना ....... by atul kumar
मेरा अक्स है तू, मेरा आइना है तू
कुछ नहीं मेरा मुझमें, मेरे दिल का आशियाना है तू।
खोकर फिरसे पाया है मैंने खुद को
मेरी खोयी हुई पहचान है तू
ढूढ़ता रहा एक अरसे से जिसको
मेरे उस वजूद का हिस्सा है तू
मेरा अक्स है तू, मेरा आइना है तू।

खो गयी थी जो हँसी चेहरे से मेरे
उस हंसी की वजह है तू, मेरे दिल का शुकुन है तू,
बेजुबान थे हर लफ्ज़ मेरे,
उन लफ़्ज़ों से बने जज्बात है तू
मेरे जिंदगी की हर सुबह और शाम है तू
मेरा अक्स है तू, मेरा आइना है तू।

तुम बस एक नाम नहीं....जिन्दगी का मतलब है तू
जीवन के इस आँगन में शोर करती
छम छम करती घुंघरू हो तुम।
क्या है मेरा मुझमे बाकि अब
मेरे इस दिल का आशियाना है तू,
मेरा अक्स है तू, मेरा आइना है तू।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *